Category Archives: Horoscope and Signs Concept

कुंडली का बारहवां घर

Important Yogas in Vedic Astrology
Book Your Consultation at AstrologerPanditji.com
Buy This Book in India!
Buy This Book in USA!
Buy This Book in UK and Europe!

हमारा टी वी कार्यक्रम कर्म कुण्डली और ज्योतिष YouTube पर देखने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Click Here to Read this Page in English

                                                            कुंडली के बारहवें घर को भारतीय वैदिक ज्योतिष में व्यय स्थान अथवा व्यय भाव कहा जाता है तथा कुंडली का यह घर मुख्य रुप से कुंडली धारक के द्वारा अपने जीवन काल में खर्च किए जाने वाले धन के बारे में बताता है तथा साथ ही साथ कुंडली का यह घर यह संकेत भी देता है कि कुंडली धारक के द्वारा खर्च किए जाने वाला धन आम तौर पर किस प्रकार के कार्यों में लगेगा। कुंडली के बारहवें घर के बलवान होने की स्थिति में आम तौर पर कुंडली धारक की कमाई और व्यय में उचित तालमेल होता है तथा कुंडली धारक अपनी कमाई के अनुसार ही धन को खर्च करने वाला होता है, जिसके कारण उसे अपने जीवन में धन को नियंत्रित करने में अधिक कठिनाई नहीं होती जबकि कुंडली के बारहवें घर के बलहीन होने की स्थिति में कुंडली धारक का खर्च आम तौर पर उसकी कमाई से अधिक होता है तथा इस कारण उसे अपने जीवन में बहुत बार धन की तंगी का सामना करना पड़ता है।

                                                        कुंडली के बारहवें घर पर शुभ या अशुभ ग्रहों के प्रभाव को देखकर यह भी पता चल सकता है कि कुंडली धारक का धन आम तौर पर किस प्रकार के कार्यों में खर्च होगा। उदाहरण के लिए कुंडली के बारहवें घर पर किसी शुभ ग्रह का प्रभाव होने पर कुंडली धारक का धन आम तौर पर अच्छे कामों में ही खर्च होगा जबकि कुंडली के बारहवें घर पर किसी अशुभ ग्रह का प्रभाव होने पर कुंडली धारक का धन आम तौर पर व्यर्थ के कामों में ही खर्च होता रहता है। कुंडली के बारहवें घर पर शुभ गुरू का प्रबल प्रभाव कुंडली धारक को धार्मिक कार्यों में धन लगाने के लिए प्रेरित करता है जबकि कुंडली के बारहवें घर पर अशुभ राहु अथवा शनि का प्रबल प्रभाव कुंडली धारक को जुआ खेलने, अत्याधिक शराब पीने तथा ऐसी ही अन्य बुरी लतों पर धन खराब करने के लिए प्रेरित करता है। 

                                                      कुंडली का बारहवां घर कुंडली धारक की विदेश यात्राओं के बारे में भी बताता है तथा किसी दण्ड के फलस्वरूप मिलने वाला देश निकाला भी कुंडली के इसी घर से देखा जाता है। किसी व्यक्ति का अपने परिवार के सदस्यों से दूर रहना भी कुंडली के इस घर से पता चल सकता है। कुंडली धारक के जीवन के किसी विशेष समय में उसके लंबी अवधि के लिए अस्पताल जाने अथवा कारावास में बंद होने जैसे विषयों के बारे में जानने के लिए भी कुंडली के इस घर को देखा जाता है। कुंडली का यह घर कुंडली धारक के जीवन के अंतिम समय के बारे में भी बताता है तथा कुंडली के इस घर से कुंडली धारक की मृत्यु के कारण का पता भी चल सकता है।

                                                      बारहवां घर व्यक्ति के जीवन में मिलने वाले बिस्तर के सुख के बारे में भी बताता है तथा यह घर कुंडली धारक की निद्रा के बारे में भी बताता है। कुंडली के इस घर पर किन्ही विशेष बुरे ग्रहों का प्रभाव कुंडली धारक को निद्रा से संबंधित रोग या परेशानियों से पीड़ित कर सकता है तथा कुंडली धारक के वैवाहिक जीवन में भी समस्याएं पैदा कर सकता है। यह समस्याएं आम तौर पर रात को सोने के समय बिस्तर पर होने वाली बातचीत से शुरू होती हैं जो बढ़ते-बढ़ते विवाद का रूप ले लेती हैं तथा व्यक्ति के वैवाहिक जीवन में परेशानियां पैदा कर देती हैं। ऐसे लोगों के संबंध सामान्य तौर पर अपने पति या पत्नी के साथ अच्छे होने के बावजूद भी सोने के समय किसी व्यर्थ की बात को लेकर पति या पत्नी के साथ विवाद हो जाता है जिससे इनको सुख की नींद लेने में बाधा आती है।

लेखक
हिमांशु शंगारी

कुंडली का ग्यारहवां घर

Important Yogas in Vedic Astrology
Book Your Consultation at AstrologerPanditji.com
Buy This Book in India!
Buy This Book in USA!
Buy This Book in UK and Europe!

हमारा टी वी कार्यक्रम कर्म कुण्डली और ज्योतिष YouTube पर देखने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Click Here to Read this Page in English

                                                           कुंडली के ग्यारहवें घर को भारतीय वैदिक ज्योतिष में लाभ स्थान अथवा लाभ भाव कहा जाता है तथा कुंडली का यह घर मुख्य तौर पर कुंडली धारक के जीवन में होने वाले वित्तिय तथा अन्य लाभों के बारे में बताता है। ग्यारहवें घर के द्वारा बताए जाने वाले लाभ कुंडली धारक द्वारा उसकी अपनी मेहनत से कमाए पैसे के बारे में ही बताएं, यह आवश्यक नहीं। कुंडली के इस घर द्वारा बताए जाने वाले लाभ बिना मेहनत किए मिलने वाले लाभ जैसे कि लाटरी में इनाम जीत जाना, सट्टेबाज़ी अथवा शेयर बाजार में एकदम से पैसा बना लेना तथा अन्य प्रकार के लाभ जो बिना अधिक प्रयास किए ही प्राप्त हो जाते हैं, भी हो सकते हैं। कुंडली के ग्यारहवें घर पर शुभ राहु का प्रभाव कुंडली धारक को लाटरी अथवा शेयर बाजार जैसे क्षेत्रों में भारी मुनाफ़ा दे सकता है जबकि इसी घर पर बलवान तथा शुभ बुध का प्रबल प्रभाव कुंडली धारक को व्यवसाय के किसी नए तरीके के माध्यम से भारी लाभ दे सकता है। वहीं दूसरी ओर कुंडली के इस घर के बलहीन होने से या बुरे ग्रहों के प्रभाव में होने से कुंडली धारक को अपने जीवन में उपर बताए गए क्षेत्रों में लाभ होने की संभावनाएं कम हो जाती हैं तथा कुंडली के ग्यारहवें घर पर अशुभ तथा बलवान राहु का प्रबल प्रभाव कुंडली धारक का बहुत सा धन जुए अथवा शेयर बाजार जैसे क्षेत्रों में खराब करवा सकता है। 

                                                        कुंडली का ग्यारहवां घर कुंडली धारक के लोभ तथा महत्त्वाकांक्षा को भी दर्शाता है क्योंकि इस कुंडली के इस घर से होने वाले लाभ आम तौर पर उन क्षेत्रों से ही प्राप्त होते हैं जिनमें अपनी किस्मत आजमाने वाले अधिकतर लोग रातों रात अमीर बन जाने के अभिलाषी होते हैं तथा इसके लिए वे ऐसे ही क्षेत्रों का चुनाव करते हैं जो उन्हें एकदम से अमीर बना देने में सक्षम हों। क्योंकि ऐसे सभी क्षेत्रों में पैसा कमाने के लिए मेहनत तथा लग्न से अधिक किस्मत की आवश्यकता होती है, इसलिए रातों रात इन क्षेत्रों के माध्यम से पैसा कमाने की कामना करने वाले लोगों में आम तौर पर लोभ तथा महत्त्वाकांक्षा की मात्रा सामान्य से अधिक होती है।

                                                       कुंडली के ग्यारहवें घर के बलवान होने पर तथा इस घर पर एक या एक से अधिक शुभ ग्रहों का प्रभाव होने पर कुंडली धारक अपने जीवन में आने वाले लाभ प्राप्ति के अवसरों को शीघ्र ही पहचान जाता है तथा इन अवसरों का भरपूर लाभ उठाने में सक्षम होता है जबकि कुंडली के ग्यारहवें घर के बलहीन होने पर अथवा इस घर पर एक या एक से अधिक अशुभ ग्रहों का प्रभाव होने पर कुंडली धारक अपने जीवन में आने वाले लाभ प्राप्ति के अधिकतर अवसरों को सही प्रकार से समझ नही पाता तथा इस कारण इन अवसरों से कोई विशेष लाभ नहीं उठा पाता।

लेखक
हिमांशु शंगारी

कुंडली का दसवां घर

Important Yogas in Vedic Astrology
Book Your Consultation at AstrologerPanditji.com
Buy This Book in India!
Buy This Book in USA!
Buy This Book in UK and Europe!

हमारा टी वी कार्यक्रम कर्म कुण्डली और ज्योतिष YouTube पर देखने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Click Here to Read this Page in English

                                                            कुंडली के दसवें घर को भारतीय वैदिक ज्योतिष में कर्म स्थान अथवा कर्म भाव कहा जाता है तथा कुंडली का यह घर मुख्य रूप से कुंडली धारक के व्यवसाय के साथ जुड़े उतार-चढ़ाव तथा सफलता-असफलता को दर्शाता है। कोई व्यक्ति अपने व्यवसायिक क्षेत्र में कितनी सफलता या असफलता प्राप्त कर सकता है, यह सफलता या असफलता उसके जीवन के किन समयों में सबसे अधिक हो सकती है तथा यह सफलता या असफलता किस सीमा तक हो सकती है, इन सभी प्रश्नों का उत्तर जानने के लिए कुंडली के दसवें घर का ध्यानपूर्वक अध्ययन करना आवश्यक है। कुंडली में दसवें घर के बलवान होने से तथा इस घर पर एक या एक से अधिक शुभ ग्रहों का प्रभाव होने से कुंडली धारक को अपने व्यवसायिक जीवन में बड़ी सफलताएं मिलतीं हैं तथा उसका व्यवसायिक जीवन आम तौर पर बहुत सफल रहता है जबकि कुंडली के दसवें घर के बलहीन होने से तथा इस घर पर एक या एक से अधिक बुरे ग्रहों का प्रभाव होने से कुंडली धारक को आम तौर पर अपने व्यवसायिक जीवन में अधिक सफलता नहीं मिल पाती तथा उसका अधिकतर जीवन व्यवसायिक संघर्ष में ही बीत जाता है।

                                                         कुंडली का दसवां घर कुंडली धारक को अपने जीवन में प्राप्त होने वाले यश या अपयश के बारे में भी बताता है तथा विशेष रूप से अपने व्यवसाय के कारण मिलने वाले यश या अपयश के बारे में। कुंडली धारक को मिलने वाले इस यश या अपयश की सीमा तथा समय निश्चित करने के लिए उसकी जन्म कुंडली में कुंडली के दसवें घर पर अच्छे या बुरे ग्रहों के प्रभाव को भली-भांति समझना अति आवश्यक है। उदाहरण के लिए किसी कुंडली में दसवें घर पर शुभ तथा बलवान सूर्य का प्रबल प्रभाव कुंडली धारक को किसी उच्च सरकारी पद पर बिठा सकता है जबकि किसी कुंडली में दसवें घर पर अशुभ तथा बलवान शनि अथवा राहु का प्रबल प्रभाव कुंडली धारक को गैर-कानूनी व्यसायों में संलिप्त करवा सकता है जिसके कारण कुंडली धारक की बहुत बदनामी हो सकती है।

                                                        कुंडली का दसवां घर कुंडली धारक की महत्त्वाकांक्षाओं के बारे में भी बताता है तथा कुंडली के अन्य तथ्यों पर विचार करने के बाद इन महत्त्वाकांक्षाओं के पूरे होने या न होने का पता भी चल सकता है। कुंडली धारक के अपनी संतान के साथ संबंध तथा संतान से मिलने वाला सुख अथवा दुख देखने के लिए भी कुंडली के इस घर पर विचार करना आवश्यक है।

लेखक
हिमांशु शंगारी

कुंडली का नौवां घर

Important Yogas in Vedic Astrology
Book Your Consultation at AstrologerPanditji.com
Buy This Book in India!
Buy This Book in USA!
Buy This Book in UK and Europe!

हमारा टी वी कार्यक्रम कर्म कुण्डली और ज्योतिष YouTube पर देखने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Click Here to Read this Page in English

                                                         कुंडली के नौवें घर को भारतीय वैदिक ज्योतिष में धर्म भाव अथवा धर्म स्थान के नाम से जाना जाता है तथा कुंडली का यह घर मुख्य तौर पर कुंडली धारक के पूर्व जन्मों में संचित अच्छे या बुरे कर्मों के इसे जन्म में मिलने वाले फलों के बारे में बताता है। इसी कारण कुंडली के नौवें घर को भाग्य स्थान भी कहा जाता है क्योंकि कर्मफल के सिद्धांत के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति का भाग्य उसके पूर्व जन्मों में संचित किए गए पुण्य तथा पाप कर्मों से ही निश्चित होता है। इस प्रकार कुंडली का यह घर अपने आप में अति महत्त्वपूर्ण है क्योंकि किसी भी व्यक्ति के जीवन में उसका भाग्य बहुत महत्त्व रखता है।

                                                    कुंडली का नौवां घर कुंडली धारक के पित्रों के साथ भी संबंधित होता है तथा इस घर से कुंडली धारक को अपने पित्रों से प्राप्त हुए अच्छे या बुरे कर्मफलों के बारे में भी पता चलता है। कुंडली के नौवें घर के पित्रों के साथ संबंधित होने के कारण इस घर पर किसी भी बुरे ग्रह का प्रभाव कुंडली में पितृ दोष का निर्माण कर देता है जिसके कारण कुंडली धारक को अपने जीवन के कई क्षेत्रों में बार-बार विभिन्न प्रकार की समस्याओं, विपत्तियों तथा परेशानियों का सामना करना पड़ता है जबकि कुंडली के नौवें घर पर एक या एक से अधिक शुभ ग्रहों का प्रभाव होने पर कुंडली धारक को अपने पूर्वजों के अच्छे कर्मों का फल उनके आशीर्वाद स्वरुप प्राप्त होता है, जिसके कारण उसे अपने जीवन के कई क्षेत्रों में सफलताएं तथा खुशियां प्राप्त होतीं हैं।

                                                 कुंडली का नौवां घर कुंडली धारक की धार्मिक प्रवृत्तियों के बारे में भी बताता है तथा उसकी धार्मिक कार्यों को करने की रुचि एवम तीर्थ स्थानों की यात्राओं के बारे मे भी कुंडली के नौवें घर से पता चलता है। नौवें घर पर किन्हीं विशेष शुभ ग्रहों का प्रभाव कुंडली धारक को बहुत धार्मिक बना देता है तथा इस घर पर शुभ गुरू, चन्द्र अथवा सूर्य का प्रभाव विशेष रूप से बहुत अच्छा माना जाता है जिसके फलस्वरूप कुंडली धारक के द्वारा अपने जीवन काल में बहुत से शुभ कार्य किए जाते हैं, जिनके शुभ फल कुंडली धारक की आने वाली पीढ़ियों को भी प्राप्त होते हैं। कुंडली का यह घर कुंडली धारक की आध्यात्मिक प्रगति के साथ भी सीधे रूप से जुड़ा होता है तथा कुंडली के इस घर से कुंडली धारक की आध्यत्मिक उन्नति का पता चल सकता है। कुंडली का नौवां घर विदेशों में भ्रमण तथा स्थायी रुप से स्थापित होने के बारे में भी बताता है।

लेखक
हिमांशु शंगारी

कुंडली का आठवां घर

Important Yogas in Vedic Astrology
Book Your Consultation at AstrologerPanditji.com
Buy This Book in India!
Buy This Book in USA!
Buy This Book in UK and Europe!

हमारा टी वी कार्यक्रम कर्म कुण्डली और ज्योतिष YouTube पर देखने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Click Here to Read this Page in English

                                                          कुंडली के आठवें घर को भारतीय वैदिक ज्योतिष में रंध्र अथवा मृत्यु भाव कहा जाता है तथा अपने नाम के अनुसार ही कुंडली का यह घर मुख्य तौर पर कुंडली धारक की आयु के बारे में बताता है। क्योंकि आयु किसी भी व्यक्ति के जीवन का एक अति महत्त्वपूर्ण विषय होती है, इसलिए कुंडली का यह घर अपने आप में बहुत महत्त्वपूर्ण होता है तथा किसी भी कुंडली का अध्ययन करते समय उस कुंडली के आठवें घर को ध्यानपूर्वक देखना अति आवश्यक होता है। किसी कुंडली में आठवें घर तथा लग्न भाव अर्थात पहले घर के बलवान होने पर या इन दोनों घरों के एक या एक से अधिक अच्छे ग्रहों के प्रभाव में होने पर कुंडली धारक की आयु सामान्य या फिर सामान्य से भी अधिक होती है जबकि कुंडली में आठवें घर के बलहीन होने से अथवा इस घर पर एक या एक से अधिक बुरे ग्रहों का प्रभाव होने से कुंडली धारक की आयु पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।

                                                        कुंडली के आठवें घर से कुंडली धारक के वैवाहिक जीवन के कुछ क्षेत्रों के बारे में भी पता चलता है जिनमे मुख्य रुप से कुंडली धारक का अपने पति या पत्नी के साथ शारीरिक तालमेल तथा संभोग़ से प्राप्त होने वाला सुख शामिल होता है। आठवें घर से कुंडली धारक की शारीरिक इच्छाओं की सीमाओं के बारे में भी पता चलता है। किसी कुंडली में आठवें घर पर किन्हीं विशेष बुरे ग्रहों का प्रभाव कुंडली धारक को आवश्यकता से अधिक कामुकता प्रदान कर सकता है जिसे शांत करने के लिए कुंडली धारक परस्त्रीगामी बन सकता है तथा अपनी कामुकता को शांत करने के लिए समय-समय पर देह-व्यापार में संलिप्त स्त्रियों के पास भी जा सकता है जिससे कुंडली धारक का बहुत सा धन ऐसे कामों में खर्च हो सकता है तथा उसे कोई गुप्त रोग भी हो सकता है। 

                                                       कुंडली का आठवां घर वसीयत में मिलने वाली जायदाद के बारे में, अचानक प्राप्त हो जाने वाले धन के बारे में, किसी की मृत्यु के कारण प्राप्त होने वाले धन के बारे में तथा किसी भी प्रकार से आसानी से प्राप्त हो जाने वाले धन के बारे में भी बताता है। कुंडली के इस घर का संबंध परा शक्तियों से भी होता है तथा किन्हीं विशेष ग्रहों का इस घर पर प्रभाव कुंडली धारक को परा शक्तियों का ज्ञाता बना सकता है। कुंडली के आठवें घर का संबंध समाधि की अवस्था से भी होता है। कुंडली के इस घर का संबंध अचानक आने वालीं समस्याओं, रुकावटों तथा परेशानियों के साथ भी होता है।

                                                      कुंडली का आठवां घर शरीर के अंगों में मुख्य रुप से गुदा तथा मल त्यागने के अंगों को दर्शाता है तथा कुंडली के इस घर पर किन्हीं विशेष बुरे ग्रहों का प्रभाव कुंडली धारक को बवासीर तथा गुदा से संबंधित अन्य बिमारियों से पीड़ित कर सकता है।

लेखक
हिमांशु शंगारी

कुंडली का सातवां घर

Important Yogas in Vedic Astrology
Book Your Consultation at AstrologerPanditji.com
Buy This Book in India!
Buy This Book in USA!
Buy This Book in UK and Europe!

हमारा टी वी कार्यक्रम कर्म कुण्डली और ज्योतिष YouTube पर देखने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Click Here to Read this Page in English

                                                         कुंडली के सातवें घर को भारतीय वैदिक ज्योतिष में युवती भाव कहा जाता है तथा कुंडली के इस घर से मुख्य तौर पर कुंडली धारक के विवाह और वैवाहिक जीवन के बारे में पता चलता है। कुंडली के इस घर से कुंडली धारक के वैवाहिक जीवन से जुड़े सबसे महत्त्वपूर्ण विषयों के बारे में पता चलता है, जैसे कि विवाह होने के लिए उचित समय, पति या पत्नी के साथ वैवाहिक जीवन का निर्वाह, वैवाहिक जीवन में पति या पत्नी से मिलने वाले सुख या दुख, लडाई-झगड़े, अलगाव, तलाक तथा पति या पत्नी को गंभीर शारीरिक कष्ट अथवा पति या पत्नी की मृत्यु के योग। इस प्रकार कुंडली धारक के विवाह तथा वैवाहिक जीवन से जुड़े अधिकतर प्रश्नों के उत्तर जानने के लिए कुंडली के इस घर का ध्यानपूर्वक अध्ययन करना अति आवश्यक है। कुंडली में सातवें घर के बलवान होने से तथा एक या एक से अधिक शुभ ग्रहों के प्रभाव में होने से कुंडली धारक का वैवाहिक जीवन आम तौर पर अच्छा या बहुत अच्छा होता है तथा उसे अपने पति या पत्नी की ओर से अपने जीवन में बहुत सहयोग, समर्थन तथा खुशी प्राप्त होती है जबकि कुंडली में सातवें घर के बलहीन होने से अथवा एक या एक से अधिक बुरे ग्रहों के प्रभाव में होने से कुंडली धारक के वैवाहिक जीवन में तरह-तरह की परेशानियां आ सकती हैं जिनमें पति या पत्नी के साथ बार-बार झगड़े से लेकर तलाक या फिर पति या पत्नी की मृत्यु भी हो सकती है।

                                                    विवाह के अतिरिक्त बहुत लंबी अवधि तक चलने वाले प्रेम संबंधों के बारे में तथा व्यवसाय में किसी के साथ सांझेदारी के बारे में भी कुंडली के इस घर से पता चलता है। कुंडली के सातवें घर से कुंडली धारक के विदेश में स्थायी रुप से स्थापित होने के बारे में भी पता चलता है, विशेष तौर पर जब यह विवाह के आधार पर विदेश में स्थापित होने से जुड़ा हुआ मामला हो।

                                                    कुंडली का सातवां घर शरीर के अंगों में मुख्य तौर पर जननांगों को दर्शाता है तथा किसी कुंडली में इस घर पर किन्हीं विशेष बुरे ग्रहों का प्रभाव कुंडली धारक को जननांगों से संबंधित रोगों से पीड़ित कर सकता है जिनमें गुप्त रोग भी शामिल हो सकते हैं। इस लिए कुंडली के इस घर का अध्ययन बहुत ध्यानपूर्वक करना चाहिए। 

लेखक
हिमांशु शंगारी

कुंडली का छठा घर

Important Yogas in Vedic Astrology
Book Your Consultation at AstrologerPanditji.com
Buy This Book in India!
Buy This Book in USA!
Buy This Book in UK and Europe!

हमारा टी वी कार्यक्रम कर्म कुण्डली और ज्योतिष YouTube पर देखने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Click Here to Read this Page in English

                                                         कुंडली के छठे घर को भारतीय वैदिक ज्योतिष में अरि भाव अथवा शत्रु भाव कहा जाता है तथा कुंडली के इस घर के अध्ययन से यह पता चल सकता है कि कुंडली धारक अपने जीवन काल में किस प्रकार के शत्रुओं तथा प्रतिद्वंदियों का सामना करेगा तथा कुंडली धारक के शत्रु अथवा प्रतिद्वंदी किस हद तक उसे परेशान कर पाएंगे। कुंडली के छठे घर के बलवान होने से तथा किसी विशेष शुभ ग्रह के प्रभाव में होने से कुंडली धारक अपने जीवन में अधिकतर समय अपने शत्रुओं तथा प्रतिद्वंदियों पर आसानी से विजय प्राप्त कर लेता है तथा उसके शत्रु अथवा प्रतिद्वंदी उसे कोई विशेष नुकसान पहुंचाने में आम तौर पर सक्षम नहीं होते जबकि कुंडली के छठे घर के बलहीन होने से अथवा किसी बुरे ग्रह के प्रभाव में होने से कुंडली धारक अपने जीवन में बार-बार शत्रुओं तथा प्रतिद्वंदियों के द्वारा नुकसान उठाता है तथा ऐसे व्यक्ति के शत्रु आम तौर पर बहुत ताकतवर होते हैं।

                                                      कुंडली का छठा घर कुंडली धारक के जीवन काल में आने वाले झगड़ों, विवादों, मुकद्दमों तथा इनसे होने वाली लाभ-हानि के बारे में भी बताता है। इसके अतिरिक्त कुंडली के इस घर से कुंडली धारक के जीवन में आने वाली बीमारियों तथा इन बीमारियों पर होने वाले खर्च का भी पता चलता है। कुंडली के छ्ठे घर से कुंडली धारक की मज़बूत या कमज़ोर वित्तिय स्थिति का भी पता चलता है। कुंडली में छठे घर के बलहीन होने से अथवा किसी विशेष बुरे ग्रह के प्रभाव में होने से कुंडली धारक को अपने जीवन काल में कई बार वित्तिय संकटों का सामना करना पड़ सकता है तथा उसे अपने जीवन काल में कई बार कर्ज लेना पड़ सकता है जिसे आम तौर पर वह समय पर चुकता करने में सक्षम नहीं हो पाता तथा इस कारण उसे बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

                                                    कुंडली का छठा घर शरीर के अंगों में पेट के निचले हिस्से को, आँतों को तथा उनकी कार्यप्रणाली को, गुर्दों तथा आस-पास के कुछ और अंगों को दर्शाता है। कुंडली के इस घर पर किन्ही विशेष बुरे ग्रहों का प्रभाव कुंडली धारक को कबज़, दस्त, कमज़ोर पाचन-शक्ति के कारण होने वाली बिमारियों, रक्त-यूरिया, पेट में गैस-जलन जैसी समस्याओं, गुर्दों की बिमारीयों तथा ऐसी ही कुछ अन्य बिमारियों से पीड़ित कर सकता है।

लेखक
हिमांशु शंगारी

कुंडली का पाँचवा घर

Important Yogas in Vedic Astrology
Book Your Consultation at AstrologerPanditji.com
Buy This Book in India!
Buy This Book in USA!
Buy This Book in UK and Europe!

हमारा टी वी कार्यक्रम कर्म कुण्डली और ज्योतिष YouTube पर देखने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Click Here to Read this Page in English

                                                          कुंडली के पाँचवे घर को भारतीय वैदिक ज्योतिष में सुत भाव अथवा संतान भाव भी कहा जाता है तथा अपने नाम के अनुसार ही कुंडली का यह घर संतान प्राप्ति के बारे में बताता है। किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली से उसकी संतान पैदा करने की क्षमता मुख्य रुप से कुंडली के इसी घर से देखी जाती है, हालांकि कुंडली के कुछ और तथ्य भी इस विषय में अपना महत्त्व रखते है। यहां पर यह बात घ्यान देने योग्य है कि कुंडली का पाँचवा घर केवल संतान की उत्पत्ति के बारे में बताता है तथा संतान के पैदा हो जाने के बाद व्यक्ति के अपनी संतान से रिश्ते अथवा संतान से प्राप्त होने वाला सुख को कुंडली के केवल इसी घर को देखकर नहीं बताया जा सकता तथा उसके लिए कुंडली के कुछ अन्य तथ्यों पर भी विचार करना पड़ता है। 

                                                        कुंडली का पाँचवा घर बलवान होने से तथा किसी शुभ ग्रह के प्रभाव में होने से कुंडली धारक स्वस्थ संतान पैदा करने में पूर्ण रुप से सक्षम होता है तथा ऐसे व्यक्ति की संतान आम तौर पर स्वस्थ होने के साथ-साथ मानसिक, शारीरिक तथा बौद्भिक स्तर पर भी सामान्य से अधिक होती है तथा समाज में अपनी एक अलग पहचान बनाने में सक्षम होती है। दूसरी ओर कुंडली का पाँचवा घर बलहीन होने की स्थिति में अथवा इस घर के किसी बुरे ग्रह के प्रभाव में होने से कुंडली धारक को संतान की उत्पत्ति में समस्याएं आती हैं तथा ऐसे व्यक्तियों को आम तौर पर संतान प्राप्ति देर से होती है, या फिर कई बार होती ही नहीं।

                                                        कुंडली का पाँचवा घर व्यक्ति के मानसिक तथा बौद्धिक स्तर को दर्शाता है तथा उसकी कल्पना शक्ति, ज्ञान, उच्च शिक्षा, तथा ऐसे ज्ञान तथा उच्च शिक्षा से प्राप्त होने वाले व्यवसाय, धन तथा समृद्धि के बारे में भी बताता है। कुंडली के पाँचवे घर के बलवान होने से तथा किसी शुभ ग्रह के प्रभाव में होने से कुंडली धारक उच्च स्तर की शिक्षा प्राप्त करने में सक्षम होता है तथा आम तौर पर इस शिक्षा के आधार पर आगे जाकर उसे जीवन में व्यवसाय भी प्राप्त हो जाता है जिससे इस शिक्षा की प्राप्ति सार्थक हो जाती है जबकि कुंडली के पाँचवे घर के बलहीन होने अथवा किसी बुरे ग्रह के प्रभाव में होने से कुंडली धारक आम तौर पर उच्च शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाता अथवा उसे इस शिक्षा को व्यवसाय में परिवर्तित करने का उचित अवसर नहीं मिल पाता।

                                                      कुंडली का पाँचवा घर कुडली धारक के प्रेम-संबंधों के बारे में, उसके पूर्व जन्मों के बारे में तथा उसकी आध्यात्मिक रुचियों तथा आध्यात्मिक प्रगति के बारे में भी बताता है। कुंडली के पाँचवे घर पर किन्हीं विशेष अच्छे या बुरे ग्रहों के प्रभाव का ध्यानपूर्वक अध्ययन करने पर कुंडली धारक के पूर्व जन्मों में संचित किए गए अच्छे अथवा बुरे कर्मों के बारे में भी पता चल सकता है तथा कुंडली धारक की आध्यत्मिक यात्रा की उन्नति या अवनति का भी पता चल सकता है। कुंडली धारक के जीवन में आने वाले प्रेम-संबंधों के बारे जानने के लिए भी कुंडली के इस घर पर ध्यान देना आवश्यक है तथा पूर्व जन्मों से संबंधित प्रेम-संबंध भी कुंडली के इस घर से जाने जा सकते हैं।

                                                     शरीर के अंगों में कुंडली का यह घर जिगर, पित्ताशय, अग्न्याशय, तिल्ली, रीढ की हड्डी तथा अन्य कुछ अंगों को दर्शाता है। महिलाओं की कुंडली में कुंडली का यह घर प्रजनन अंगों को भी कुछ हद तक दर्शाता है जिससे उनकी प्रजनन करने की क्षमता का पता चलता है। कुंडली के पाँचवे घर पर किन्हीं विशेष बुरे ग्रहों का प्रभाव कुंडली धारक को प्रजनन संबंधित समस्याएं तथा मधुमेह, अल्सर तथा पित्ताशय में पत्थरी जैसी बिमारियों से पीड़ित कर सकता है।

लेखक
हिमांशु शंगारी

कुंडली का चौथा घर

Important Yogas in Vedic Astrology
Book Your Consultation at AstrologerPanditji.com
Buy This Book in India!
Buy This Book in USA!
Buy This Book in UK and Europe!

हमारा टी वी कार्यक्रम कर्म कुण्डली और ज्योतिष YouTube पर देखने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Click Here to Read this Page in English

                                                         कुंडली के चौथे घर को भारतीय वैदिक ज्योतिष में मातृ भाव तथा सुख स्थान भी कहा जाता है तथा जैसे कि इस घर के नाम से ही पता चलता है, यह घर कुंडली धारक के जीवन में माता की ओर से मिलने वाले योगदान तथा कुंडली धारक के द्वारा किए जाने वाले सुखों के भोग को दर्शाता है। चौथा घर कुंडली का एक महत्त्वपूर्ण घर है तथा किसी भी बुरे ग्रह का चौथे घर अथवा चन्द्रमा पर बुरा प्रभाव कुंडली में मातृ दोष बना देता है। किसी व्यक्ति के जीवन में उसकी माता की ओर से मिले योगदान तथा प्रभाव को देखने के लिए तथा माता के साथ संबंध और माता का सुख देखने के लिए कुंडली के इस घर का ध्यानपूर्वक अध्ययन करना आवश्यक है। कुंडली के इस घर से किसी व्यक्ति के बचपन में उसकी माता की ओर से मिले सहयोग तथा उसकी मूलभूत शिक्षा के बारे में भी पता चलता है।

                                                     कुंडली का चौथा घर व्यक्ति के ज़ीवन में मिलने वाले सुख, खुशियों, सुविधाओं, तथा उसके घर के अंदर के वातावरण अर्थात घर के अन्य सदस्यों के साथ उसके संबंधों को भी दर्शाता है।  किसी व्यक्ति के जीवन में वाहन-सुख, नौकरों-चाकरों का सुख, उसके अपने मकान बनने या खरीदने जैसे भावों को भी कुंडली के इस घर से देखा जाता है। कुंडली में चौथे घर के बलवान होने से तथा किसी अच्छे ग्रह के प्रभाव में होने से कुंडली धारक को अपने जीवन काल में अनेक प्रकार की सुख-सुविधाओं तथा ऐश्वर्यों का भोग करने को मिलता है तथा उसे बढिया वाहनों का सुख तथा नए मकान प्राप्त होने का सुख़ भी मिलता है। दूसरी ओर कुंडली के चौथे घर के बलहीन अथवा किसी बुरे ग्रह के प्रभाव में होने की स्थिति में कुंडली धारक के जीवन काल में उपर बताई गईं सुख-सुविधाओं का आम तौर पर अभाव ही रहता है। 

                                                   कुंडली का चौथा घर शरीर के अंगों में छाती, फेफड़ों, हृदय तथा इसके आस-पास के अंगों को दर्शाता है तथा इस घर पर बुरे ग्रहों का प्रभाव कुंडली धारक को छाती, फेफड़ों तथा हृदय से संबंधित रोगों से पीड़ित कर सकता है तथा इसके अतिरिक्त कुंडली धारक की मानसिक शांति पर बुरा प्रभाव डाल सकता है अथवा कुंडली धारक को मानसिक रोगों से पीड़ित भी कर सकता है क्योंकि कुंडली का चौथा घर कुंडली धारक की मानसिक शांति से सीधे तौर पर जुड़ा होता है। 

                                                 किसी व्यक्ति की जमीन-जायदाद के बारे में बताने के लिए तथा जमीन-जायदादों से संबंधित व्यवसायों में उसे होने वाले लाभ या हानि के बारे में जानने के लिए भी कुंडली के इस घर को देखा जाता है। किसी व्यक्ति को अपने जीवन में मिलने वाली मानसिक शांति तथा घर के वातावरण के बारे में भी यह घर बताता है। कुंडली के इस घर पर किन्ही विशेष ग्रहों का बुरा प्रभाव होने की स्थिति में कुंडली धारक को अपने घर के वातावरण में घुटन अथवा असुविधा का अहसास होता है तथा ऐसे लोग आम तौर पर घर से बाहर रहकर ही अधिक शांति का अनुभव करते है। कुंडली का चौथा घर कुंडली धारक के अपने रिश्तेदारों के साथ संबंधों के बारे में भी बताता है तथा इस घर पर किन्हीं विशेष बुरे ग्रहों का प्रभाव होने से कुंडली धारक के अपने रिश्तेदारों के साथ संबंधों में भी तनाव आ सकता है।

लेखक
हिमांशु शंगारी

कुंडली का तीसरा घर

Important Yogas in Vedic Astrology
Book Your Consultation at AstrologerPanditji.com
Buy This Book in India!
Buy This Book in USA!
Buy This Book in UK and Europe!

हमारा टी वी कार्यक्रम कर्म कुण्डली और ज्योतिष YouTube पर देखने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Click Here to Read this Page in English

                                                          कुंडली के तीसरे घर को वैदिक ज्योतिष में बंधु भाव कहा जाता है तथा जैसा कि इस घर के नाम से ही स्पष्ट है, कुंडली के इस घर से कुंडली धारक के अपने भाई-बंधुओं, दोस्तों, सहकर्मियों तथा पड़ोसियों के साथ संबधों का पता चलता है। किसी व्यक्ति के जीवन काल में उसके भाईयों तथा दोस्तों से होने वाले लाभ तथा हानि के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए कुंडली के इस घर का ध्यानपूर्वक अध्ययन करना आवश्यक है। जिन व्यक्तियों की कुंडली में तीसरा घर बलवान होता है तथा किसी अच्छे ग्रह के प्रभाव में होता है, ऐसे व्यक्ति अपने जीवन काल में अपने भाईयों, दोस्तों तथा समर्थकों के सहयोग से सफलतायें प्राप्त करते हैं। जबकि दूसरी ओर जिन व्यक्तियों की जन्म कुंडली में तीसरे घर पर एक या एक से अधिक बुरे ग्रहों का प्रभाव होता है, ऐसे व्यक्ति अपने जीवन काल में अपने भाईयों तथा दोस्तों के कारण बार-बार हानि उठाते हैं तथा इनके दोस्त या भाई इनके साथ बहुत जरुरत के समय पर विश्वासघात भी कर सकते हैं। ऐसे व्यक्तियों के दोस्त आम तौर पर इनकी पीठ के पीछे इनकी बुराई ही करते हैं।

                                                       शरीर के अंगों में यह घर कंधों तथा बाजुओं को दर्शाता है तथा विशेष रूप से दायें कंधे तथा दायें बाजू को। इसके अतिरिक्त यह घर मस्तिष्क से संबंधित कुछ हिस्सों तथा सांस लेने की प्रणाली को भी दर्शाता है तथा इस घर पर किसी बुरे ग्रह का प्रभाव कुंडली धारक को मस्तिष्क संबंधित रोगों अथवा श्व्सन संबंधित रोगों से पीड़ित कर सकता है। इसके अतिरिक्त तीसरे घर पर किसी बुरे ग्रह का प्रभाव कुंडली धारक को कंधे या बाजू की चोट या फिर लकवा जैसी बीमारी से भी पीड़ित कर सकता है।

                                                        कुंडली का तीसरा घर कुंडली धारक के पराकर्म को भी दर्शाता है तथा इसिलिए कुंडली के इस भाव को पराकर्म भाव भी कहा जाता है। किसी व्यक्ति की शारीरिक मेहनत करने की क्षमता, शारीरिक उर्जा के बल पर खेले जाने वाले खेलों में उसकी रुचि तथा प्रगति देखने के लिए भी कुंडली के इस घर का अध्ययन आवश्यक है। कुंडली के तीसरे घर से व्यक्ति की बातचीत करने की कुशलता, लिखने की कला तथा लोगों के साथ व्यवहार करने की कला का भी पता चलता है। जिन व्यक्तियों की जन्म कुंडली में तीसरा घर किसी विशेष अच्छे ग्रह के प्रभाव में होता है, ऐसे व्यक्ति आम तौर पर जन व्यवहार में बहुत कुशल होते हैं तथा ऐसे ही कामों में सफलता प्राप्त करते हैं जिनमें लोगों के साथ बातचीत करने के अवसर अधिक से अधिक होते हैं। ऐसे व्यक्ति अपनी बातचीत की कुशलता के चलते आम तौर पर मुश्किल से मुश्किल काम भी बातचीत के माध्यम से सुलझा लेने में सक्षम होते है। दूसरी ओर कुंडली के तीसरे घर पर किन्हीं विशेष बुरे ग्रहों का प्रभाव होने की स्थिति में कुंडली धारक का जन व्यवहार तथा बातचीत का कौशल इतना अच्छा नहीं होता तथा ऐसे लोग जन संचार से संबंधित कार्यों में आम तौर पर अधिक सफल नहीं हो पाते।

लेखक
हिमांशु शंगारी