अशुभ राहु से पित्र दोष

ThreeMonstersCover
Book Your Consultation at AstrologerPanditji.com
Buy This Book in India!
Buy This Book in USA!
Buy This Book in UK and Europe!

Read this Page in English

संबंधित लेख : पितृ दोष संग्रह

Watch This Video on YouTube

ज्योतिष के अनुसार सूर्य को नवग्रहों में से राजा माना जाता है तथा सूर्य हमारी कुंडली में हमारी आत्मा, हमारे पिता, हमारे पूर्वजों, हमारी नर संतान पैदा करने की क्षमता आदि का प्रदर्शन करते हैं जिसके चलते प्रत्येक कुंडली में सूर्य बहुत महत्वपूर्ण ग्रह माना जाता है तथा इसी के कारण सूर्य पर कुंडली में किसी एक या एक से अधिक अशुभ ग्रहों का प्रभाव पड़ने पर जातक के लिए बहुत सीं समस्याएं पैदा हो सकती हैं। कुंडली का नौवां घर हमारे पिता, हमारे दादा, हमारे पूर्वजों आदि को दर्शाता है तथा साथ ही साथ कुंडली का नौवां घर हमारे उस भाग्य को भी दर्शाता है जिसका निर्माण हमारे पूर्व जन्म के अच्छे अथवे बुरे कर्मों के फलस्वरूप हुआ है। इसलिए कुंडली का नौवां घर भी कुंडली के बहुत महत्वपूर्ण घरों में से एक माना जाता है क्योंकि भाग्य के बिना तो कोई भी व्यक्ति कुछ भी प्राप्त नहीं कर सकता। इसलिए किसी कुंडली में सूर्य अथवा कुंडली के नौवें घर के एक अथवा एक से अधिक अशुभ ग्रहों के प्रभाव में आ जाने पर कुंडली में पित्र दोष बन जाता है जो जातक को उसके जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में अनेक प्रकार के कष्टों से पीड़ित कर सकता है । पित्र दोष पर प्रकाशित पिछले कुछ लेखों में हम विचार कर चुके हैं कि कुंडली के विभिन्न घरों में बनने वाला पित्र दोष जातक को किस प्रकार के कष्ट पहुंचा सकता है। लेखों की इस नई श्रंखला में हम देखेंगे कि कुंडली में विभिन्न नवग्रहों से बनने वाले पित्र दोष जातक के पूर्व जन्म के किन संभावित बुरे कर्मों को दर्शाते हैं तथा आज के इस लेख में हम देखेंगे कि किसी कुंडली में राहु के द्वारा बनाया जाने वाला पित्र दोष जातक अथवा उसके पित्रों के किन संभावित बुरे कर्मों को दर्शाता है।

           ज्योतिष के अनुसार राहु को मायावी ग्रह के नाम से भी जाना जाता है तथा मुख्य रूप से राहु मायावी विद्याओं तथा मायावी शक्तियों के ही कारक माने जाते हैं। इसके अतिरिक्त राहु को बिना सोचे समझे मन में आ जाने वाले विचार, बिना सोचे समझे अचानक मुंह से निकल जाने वाली बात, क्षणों में ही भारी लाभ अथवा हानि देने वाले क्षेत्रों जैसे जुआ, लाटरी, घुड़दौड़ पर पैसा लगाना, इंटरनैट तथा इसके माध्यम से होने वाले व्यवसायों तथा ऐसे ही कई अन्य व्यवसायों तथा क्षेत्रों का कारक माना जाता है। राहु की अन्य कारक वस्तुओं में लाटरी तथा शेयर बाजार जैसे क्षेत्र, वैज्ञानिक तथा विशेष रूप से वे वैज्ञानिक जो अचानक ही अपने किसी नए अविष्कार के माध्यम से दुनिया भर में प्रसिद्ध हो जाते हैं, इंटरनैट से जुड़े हुए व्यवसाय तथा इन्हें करने वाले लोग, साफ्टवेयर क्षेत्र तथा इससे जुड़े लोग, तम्बाकू का व्यापार तथा सेवन, राजनयिक, राजनेता, राजदूत, विमान चालक, विदेशों में जाकर बसने वाले लोग, अजनबी, चोर, कैदी, नशे का व्यापार करने वाले लोग, सफाई कर्मचारी, कंप्यूटर प्रोग्रामर, ठग, धोखेबाज व्यक्ति, पंछी तथा विशेष रूप से कौवा, ससुराल पक्ष के लोग तथा विशेष रूप से ससुर तथा साला, बिजली का काम करने वाले लोग, कूड़ा-कचरा उठाने वाले लोग, एक आंख से ही देख पाने वाले लोग तथा ऐसे ही अन्य कई प्रकार के क्षेत्र तथा लोग आते हैं।  किसी कुंडली में अशुभ राहु द्वारा पित्र दोष बनाये जाने का अर्थ यह होता है कि ऐसे जातक तथा उसके पूर्वजों ने पिछ्ले जन्मों में राहु की विशेषताओं से संबंधित अपराध किये होते हैं अथवा इन विशेषताओं का दुरुपयोग किया होता है जिसके चलते राहु अशुभ होकर ऐसे जातक की जन्म कुंडली में पित्र दोष बनाते हैं।

           जिन जातकों के पूर्वजों ने राहु महाराज द्वारा प्रदान की गईं विशेषताओं का दुरुपयोग करके अवैध तथा अनैतिक कार्यों से धन कमाया होता है उन जातकों की कुंडली में इस प्रकार का पित्र दोष बन सकता है। उदाहरण के लिए किसी कुंडली के छठे घर में अशुभ राहु से बनने वाले पित्र दोष का अर्थ यह हो सकता है कि जातक के पूर्वजों ने अनेक प्रकार के अनैतिक तथा अवैध कार्यों के माध्यम से धन अर्जित किया था जिसके चलते जातक की कुंडली में इस प्रकार का पित्र दोष बनता है जिसके अशुभ प्रभाव में आने के कारण जातक को एक अथवा एक से अधिक गंभीर रोग हो सकते हैं जो जातक को बहुत कष्ट पहुंचाते हैं तथा जो जातक की मृत्यु का कारण भी बनते हैं। इस प्रकार के पित्र दोष से पीड़ित कुछ जातक अपराधी भी बन सकते हैं तथा ऐसे जातक सामान्यतया अपराध का जीवन आरंभ करने के बाद शीघ्र ही पकड़े जाते हैं तथा इन जातकों को अपने अपराध की तुलना में कहीं अधिक लंबा समय कारावास में व्यतीत करना पड़ सकता है। इस प्रकार के कुछ अन्य जातकों को किसी प्रकार के न्यायालय के निर्णय के चलते धन अथवा संपत्ति की हानि भी उठानी पड़ सकती है।

       जिन जातकों के पूर्वजों ने नशीले पदार्थों के अवैध व्यापार के माध्यम धन कमाया होता है उनकी कुंडली में भी इस प्रकार का पित्र दोष  बन सकता है। उदाहरण के लिए किसी कुंडली के दूसरे घर में बनने वाला इस प्रकार के पित्र दोष का यह अर्थ हो सकता है कि जातक के पूर्वज मादक पदार्थों की अवैध बिक्री करते थे तथा उनका द्वारा बेचे जाने वाले मादक पदार्थों के सेवन से बहुत लोगों को अनेक प्रकार के रोगों का सामना करना पड़ा था जिसके चलते इस प्रकार का पित्र दोष जातक की कुंडली में बन जाता है जिसके अशुभ प्रभाव के कारण जातक को मादक पदार्थों के सेवन की लत लग सकती है जिसके कारण ऐसे जातक को धन, सम्मान तथा स्वास्थ्य सभी की हानि होती है। इस प्रकार के पित्र दोष से पीड़ित कुछ जातकों को मादक पदार्थों के निरंतर सेवन के कारण गंभीर रोग लग सकते हैं, इनके शरीर के कुछ अंग इन मादक पदार्थों के सेवन के कारण निष्क्रिय हो सकते हैं तथा इस दोष के कुंडली में बहुत प्रबल होने पर जातक की मादक पदार्थों का सेवन अधिक मात्रा में करने के कारण मृत्यु भी हो सकती है। जातक को मिलने वाले इस प्रकार के सभी कष्ट वास्तव में जातक अथवा उसके पूर्वजों के पिछ्ले जन्मों के बुरे कर्मों का फल ही होते हैं।

     जिन जातकों के पूर्वजों ने राहु महाराज की कृपा से मिली सत्ता अथवा प्रभुत्व वाले किसी पद का दुरुपयोग किया होता है, उनकी कुंडली में भी इस प्रकार का पित्र दोष बन सकता है। उदाहरण के लिए किसी कुंडली के चौथे घर में अशुभ राहु से बनने वाले पित्र दोष का अर्थ यह हो सकता है कि जातक के पूर्वजों ने राहु महाराज की विशेषताओं के कारण मिली सत्ता अथवा प्रभुत्व का दुरुपयोग करके निर्दोष लोगों को सताया था तथा अनैतिक ढंग से धन संपत्ति अर्जित की थी जिसके कारण जातक की कुंडली में इस प्रकार का पित्र दोष बन जाता है जिसके अशुभ प्रभाव के कारण जातक को कोई गंभीर मानसिक रोग लग सकता है जिसका उचित उपचार सारा जीवन नहीं हो पाता तथा जिसके कारण जातक को बहुत सा समय किसी मानसिक अस्पताल में व्यतीत करना पड़ सकता है। इस प्रकार के पित्र दोष से पीड़ित कुछ जातकों को किसी ऐसे आरोप के चलते बहुत बदनामी तथा अपयश मिल सकता है जो वास्तव में सच ही न हो तथा वास्तव में ऐसा झूठा आरोप जातक के पिछले जन्मों के बुरे कर्मों के कारण ही जातक को भुगतना पड़ता है। जिन जातकों ने अथवा जिन जातकों के पूर्वजों ने अपने पिछले जन्मों में अपने ससुराल पक्ष को बहुत पीड़ित किया होता है, उन जातकों की कुंडली में भी इस प्रकार का पित्र दोष बन सकता है जिसके चलते इन जातकों के वैवाहिक जीवन में अनेक प्रकार की समस्याएं आतीं हैं तथा बहुत बार इन समस्याओं का कारण जातक का ससुर अथवा साला ही होता है।

                 इस प्रकार कुंडली में अशुभ राहु से बनने वाला पित्र दोष जातक के पूर्व जन्म के अनेक प्रकार के ऐसे बुरे कर्मों के कारण बन सकता है जो जातक ने अपने पिछ्ले जीवन में किये हों, जो राहु की विशेषताओं को विपरीत रूप से प्रभावित करते हों तथा जिनके लिए जातक को पिछ्ले जन्म में उचित दण्ड न मिला हो। ऐसे कर्म जातक के इस जीवन में उसकी कुंडली में अशुभ राहु के कारण बनने वाले पित्र दोष के माध्यम से चित्रित होते हैं तथा ऐसा पित्र दोष जातक को उसके जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में उसके पूर्व जन्मों के बुरे कर्मों के आधार पर अनेक प्रकार के कष्ट पहुंचाता है। कुंडली में बनने वाले इस प्रकार के पित्र दोष का अशुभ प्रभाव ज्योतिष के उपायों के माध्यम से बहुत सीमा तक कम किया जा सकता है।

लेखक
हिमांशु शंगारी